सिद्ध  वातदर्द कल्पचुर्ण- यह हर दर्द की दवा है जो दिलवाएं हर दर्द से मुक्ति
ID: 2330
दर्द जीवन को नर्क बना देता है पाएं दर्द से छुटकारा ,अगर आप दर्द से है परेशान तो जरूर इस्तेमाल करे । यह घरेलू अयुर्वेदिक योग है।


सिद्ध वातदर्द क्ल्पचुर्ण


समस्त दर्द और सूजन में रामबाण बुखार के बाद होने वाले दर्द में कारगर शुगर में जबरदस्त फायदा भारती अयुर्वेदिक ऋषियों की अयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की खोज पर आधारित जिस का कोई साइड इफेक्ट नही है।

80 प्रकार के  वात रोगों  में रामबाण है साथ मे आस्टि़यो आर्थराईटिस जोड़ों के दर्द और  खून में जमे कत्थे को भी सही करती है।
सुस्ती रहती हो, थकावट और कमजोरी महसूस हो,नींद न आती हो शरीर में भारापन और पेट की खराबी रहती हो तो यह रामबाण होगी। कैसी  भी शरीर की सूजन हो यह दवा सूजन कम करेगी

यह दवा शुगर के मरीज भी ले ।यह योग शुगर को भी नार्मल करता है।

ID: 2300
सिद्ध आयुर्वेदिक लागत rate पर आयुर्वेद दवा उपलब्धत करा रहा है।
20 दिन की दवा 200 ग्राम 510 रुपये with कोरियर

किसी दर्द से परेशान बजुर्गों को यह दवा दे जिस का कोई साइड इफेक्ट भी नही है

सिद्ध आयुवैदिक आप जी को लागत और सस्ती दरों पर आयुर्वेदिक दवा उपलब्धत करवाता है।
  सिद्ध वातदर्द कल्पचुर्ण के लाभ होगा
☑️ मांसपेशियां की कमजोरी, ढीलापन और सूजन में कारगर
☑️ नाक जंतु4 (Polyps) दर्द और सूजन
☑️ चेहरे की नसो मे दर्द
☑️ Frozen shoulder_जमा हुआ( Frozen shoulder) या जकड़ा हुआ कन्धा में यह दवा रामबाणहै
☑️ अफस्फीत शिराएं(Varicose veins) दर्द
☑️ सर्वकल दर्द
☑️ पुरपडी (आंख से लेकर कान तक)दर्द
☑️ छाती का दर्द
☑️ घुटनों का दर्द,
☑️ जोड़ा का दर्द और सुजन,
☑️ कमर दर्द ,गठिया दर्द
☑️ समस्त शरीर का दर्द
☑️ युरिक एसिड दर्द
☑️ गर्दन नस दर्द
☑️ माइग्रेन का दर्द
☑️ डिस्क का दर्द
☑️ सिर (आधा) दर्द
☑️ नस ब्लॉक दर्द
☑️ सायटिका दर्द
☑️ डेंगू रोग में रामबाण
यह दवा सभी प्रकार के दर्दो के लिए है क्योंकि यह दवा हमारे शरीर मे रोग प्रीतिरोधक जीवाणुओं को बढ़ाती है।
अगर किसी के घुटनों की ग्रीस खत्म हो चुकी हो और उनका चलना, उठना और सीढ़ी चढ़ना मुश्किल हो गया हो तो यह दवा कारगर होगी।

सिद्ध वातदर्द कल्पचूर्ण में  क्या क्या जड़ी बूटियां है।


*इंद्रयाण अजवाइन 100 ग्राम  सौंठ भुनी 50 ग्राम ,सोंठ, काली मिर्च और पीपर – 5-5 ग्राम। पिपरामूल, चित्रकमूल, च्‍वय, धनिया, बेल की जड, अजवायन, सफ़ेद जीरा, काला जीरा, हल्‍दी, दारूहल्‍दी, अश्‍वगंधा, गोखुरू, खरैटी, हरड़, बहेड़ा, आंवला, शतावरी, मीठा सुरेजान, शुद्ध कुचला, बड़ी इलायची, दालचीनी, तेजपात, नागकेसर 4-4 ग्राम।*

योगराज गुग्‍गल 100 को कूटने के बाद बारीक पीस लें और छान कर मिला लें। दवा तैयार हो गई ।

सेवन विधि – 1-1 चम्मच छोटा सुबह-शाम दूध के साथ ले ।

घुटनों के दर्द में दवा के साथ यह जरूर करे दिन में 2 बार

3 लीटर पानी में 200 ग्राम नमक 200 ग्राम सरसों का तेल डालकर गरम कर लें। फिर उस पानी में कपड़ा भिगोकर लगभग 10 मिनट तक नित्य सेंकाई करें।

परहेज -: घुटने दर्द में क्या खाएं क्या नहीं

घुटने के दर्द में केवल ठंडी तथा वायु बनाने वाली चीजों का उपयोग वर्जित है।

फलों तथा हरी तरकारियों का सेवन अधिक करें| मट्ठा, चाट, पकौड़े, मछली, मांस, मुर्गा, अंडा, धूम्रपान आदि का सेवन बिलकुल न करें।

घुटनों को मोड़कर नहीं बैठना चाहिए|।

पेट को साफ रखें तथा कब्ज न बनने दें|।

दूध के साथ ईसबगोल की भूसी का प्रयोग करें।

शरीर को अधिक थकने वाले कार्य न करें।

प्रतिदिन सुबह-शाम टहलने के लिए अवश्य जाएं।

ID: 1791

♈♈

☆साथ मे यह करे ज्यादा फायदा होगा ☆

☑️ आलू, शिमला मिर्च, हरी मिर्च, लाल मिर्च, अत्‍यधिक नमक, बैगन आदि न खाये।

☑️ घुटनो की गर्म व बर्फ के पैड्स से सिकाई करे।

घुटनो के निचे तकिया रखे। वजन कम रखे इसे बढ़ने न दे।

☑️ ज्‍यादा लम्बे समय तक खड़े न रहे। आराम करे दर्द बढ़ाने वाली गति विधिया न करे इससे आपका दर्द और बढता जायेगा और आप इसे सहन नहीं कर पाएंगे।

☑️ सुबह खली पेट तीन से चार अखरोट खाये, विटामिन इ युक्त खाना खाये धुप सेके।

सिद्ध वातदर्द कल्पचुर्ण online मगवां सकते हैं।

Whats मैसिज कर जानकारी प्राप्त करे

Whats 94178 62263

78890 53063

https://local.google.com/place?id=4759376399547906596&use=posts&lpsid=6167777224487752707
ID: 1814

Add Comment