सिद्ध खून शुद्वि कल्पचुर्ण-खून के हर कतरे की करे सफ़ाई
ID: 2330

सिद्ध खून शुद्वि कल्पचूर्ण

ID: 1825

   

खून शुद्धि कल्पचूर्ण के लाभः

                ???

☑️ त्वचा के सभी रोगों में लाभदायक

☑️  झाइयां

☑️  बालों का झड़ना

☑️  पीरियड समस्या

☑️  कब्ज से होने वाले रोग

☑️  खून की खराबी

☑️  खून न बनना

☑️  नज़र का कमजोर होना।

☑️  कब्ज से होने वाले रोगों में कारगर

                   ???

झाइयां की जटिल समस्या के लिए लाभदायक

अगर आप के चेहरे पर झाइयां है और यह किसी दवा से भी नही जा रही या आप दवा ले ले थक गये है तो 30 दिन खून शुद्वि लगातार लेकर देखे। 

                     ???

बालों की जटिल समस्या के लिए लाभदायक

अगर आप के बाल झड़ रहे हैं या 2 मुहे है आप दवा ले ले थक गये है तो 30 दिन लगातार लेकर देखे।

                      ???

इसके अलावा औऱ फ़ायदे :–

इस दवा से चेहरे का कालापन,पीपल्स ,फुंसी, झाईयां, आँखों के नीचे काला घेरा, कब्ज से होने वाले रोग,और खून की खराबी से होने वाले रोग ठीक होते हैं। वाल का बेजान होना, टूटना गंजापन होना,छोटे छोटे चेचक की भांति दाग।यहाँ तक कि नारी पीरियड को भी सही करते है।

सिद्ध खून शुद्धि कल्पचुर्ण

            ???

               

 कुटकी 250 ग्राम, हारसिंगार-200 ग्राम,गोरखमुण्डी-100 ग्राम,मेथी दाना भुना हुआ 200ग्राम, कलौंजी-100 ग्राम त्रिफला 200 ग्राम,गिलोय 100 ग्राम,अजवायन 100 ग्राम,नीम पंचाग 100 ग्राम,तुलसी पंचाग 100 ग्राम,बेल चुर्ण 100 ग्राम,आँवला 50 ग्राम चरायता 50 ग्राम,हल्दी 50 ग्राम,सोंठ 50 ग्राम काली मिर्च 50 ग्राम,सौंफ 50 ग्राम काला नमक 50 ग्राम

सभी को मिलाकर चुर्ण बनाए और 300 ग्राम एलोवेरा रस में भावना दे कर सुखाए।

सुबह-शाम पानी या दूध के 1 चमच्च लेते रहे।

21 दिन लगातार सेवन करें।

खून अशुद्धि के लक्षण

खून अशुद्धि  प्रभाव से व्यक्ति में थकान, अनिंद्रा, पेट संबंधी बीमारियाँ जैसे- पेट में गड़बड़ी होना, मोटापा , पेट दर्द आदि और त्वचा के रोग जैसे- दाग, फोड़े-फुंसी, कील-मुहाँसे आदि पनपने लगते हैं.

कारण :-एनीमिया(खून की कमी)

महिलाओं में खून की कमी होना आम बात है। जिस कारण महिलाओं को एनीमिया हो जाता है। यह भोजन में आयरन की कमी के कारण होता है। आयरन की कमी होने से शरीर में पर्याप्त मात्रा में लाल रक्त कोशिकाएं नहीं बन पाती हैं। 

यह  लाल रक्त कोशिकाएं ही हैं, जो पूरे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई कर ऊर्जा प्रदान करने में मदद करती हैं। 

ऑक्सीजन की कमी के कारण बालों को विकसित होने के लिए ज़रूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते और टूटकर गिरने लगते हैं 

इनके अलावा, बुढ़ापा, थायराइड और विटामिन-बी6 व फोलिक एसिड की कमी से भी बालों के झड़ने और झाइयां की समस्या हो सकती है।

 खून शुद्वि के लिए भोजन कुछ घरेलू उपाय

रक्त में पनपी या फैली हुई अशुद्धि को दूर करने के लिए फाइबर युक्त भोजन एक सर्वोत्तम उपाय है।

फाइबर युक्त पदार्थ जैसे- 

चुकंदर, मूली, शलजम, गाजर, नारंगी, अमरुद, गन्ना, टमाटर, बेर, पालक ब्रोकली, समुद्री शैवाल, क्लोरिल्ला, बंदगोभी आदि में रक्त साफ करने की क्षमता सर्वाधिक होती है.

विटामिन C, लौहयुक्त एवं कैल्शियम युक्त पदार्थ रक्त में मौजूद अशुद्धियों को पूर्णतया समाप्त कर देते हैं. इसके अतिरिक्त बेल का रस एवं दूध से निर्मित खाद्य तत्वों के सेवन से रक्त में जमे हुए अपशिष्ट पदार्थ मल आदि का नाश होता है.

1. ग्वारपाठे का ताज़ा रस, 25 ग्राम शहद और आधे निम्बू का रस मिलाकर रोज़ाना इसका सेवन करें.

2. 25 ग्राम मुनक्के को रात में भिगोकर सवेरे पीसकर इसका एक कप पानी के साथ सेवन करें.

3. 60 ग्राम करेले का रस पानी के साथ प्रतिदिन सेवन करें.

दिनभर में कम से कम 2 लीटर पानी का सेवन अवश्य करें. पानी की पर्याप्त मात्रा रक्तप्रवाह को शरीर में समुचित रूप से बनाए रखती है .अधिक पानी के सेवन से अशुद्धियाँ पसीने या मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाती है.

एक चौथाई प्याज के रस में निम्बू और शहद की कुछ मात्रा मिलाकर पीने से रक्त विकार दूर होते हैं. आधा कप प्याज का रस, एक कप गाजर का रस और एक कप पालक का रस मिलाकर इसका रोज़ाना भूखे पेट सेवन करने से रक्त शुद्धि में लाभ प्राप्त होगा.

नीम की पकी हुई निम्बोली चूसने या नीम के पत्ते, छाल, जड़ आदि को पीसकर नित्य पानी के साथ पीने से रक्त की अशुद्धि दूर हो जाएगी. आंकड़े के ताजे फूलों को काली मिर्च के साथ पीसकर पानी से इसका सेवन करें, इससे रक्त साफ हो, शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ जाएगा.

Online मंगवाएं Whats  /telegram

78890 53063/9417862263

ID: 1791

              

ID: 1788

Add Comment